sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2019

Builders-Learned-Construction-of-Toilets

राजगीरों ने सीखी शौचालय निर्माण की बारीकियां

103 सप्ताह पहले
उत्तर प्रदेश के बांदा जनपद को खुले में शौचमुक्त करने का कार्य शुरू हो गया है। इसके लिए पंचायती राज विभाग द्वारा दो दिनों तक राजगीरों को प्रशिक्षण दिया गया है। जिला मुख्यालय के समीपवर्ती गांव त्रिवेणी में लखनऊ की टीम ने 40 राजगीरों को शौचालय डिजाइन व निर्माण की अन्य बारीकियों को सिखाया। जिले में पिछले कई महीनों से गांवों को खुले में शौचमुक्त करने की कवायद चल रही है। पहले 70 से अधिक ग्राम इसके लिए चयनित हुए। लेकिन अब पूरे जिले को खुले में शौच से मुक्त करना है। अभियान के शुरुआती चरण में 40 मास्टर ट्रेनर तैयार किए जा रहे हैं, जो गांव-गांव में प्रशिक्षण देकर अन्य राजगीरों को विभागीय मानक के अनुसार शौचालय निर्माण की बारीकियां सिखाएंगे...
Police-Start-Campaign-for-Open-Defecation-in-Ghaziabad

खुले में शौच करने वालों की धड़पकड़

103 सप्ताह पहले
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत का अभियान अब गांवों में भी रंग दिखाने लगा है। पुलिस ने निगरानी समिति के साथ मिलकर खुले में शौच करने वालों की तलाश शुरू कर दी है। गाजियाबाद के बसंतपुर सैंथली गांव में ग्रामीणों के खुले में शौच से आजिज महिला ग्राम प्रधान ने पुलिस को सूचना दे दी। सूचना मिलते ही पुलिस को गश्त लगाता देख खुले में शौच के लिए बैठे ग्रामीण भाग खड़े हुए। मौके से पुलिस ने तीन ग्रामीणों को हिरासत में लिया। बाद में उन्हें इस हिदायत के बाद छोड़ा गया कि वे आइंदा खुले में शौच नहीं करेंगे। ग्राम प्रधान अनिर्मा त्यागी पिछले एक साल से स्वच्छ भारत-स्व...
Selfie-with-Toilets-Necessary

शौचालय के साथ सेल्फी जरूरी

103 सप्ताह पहले
आगरा में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) को उड़ान देने के लिए अब एक और नियम बनाया गया है। जिसके अनुसार स्वच्छता अभियान के तहत अब ग्रामीण इलाकों में बनाए गए शौचालयों की सेल्फी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी। गांवों को खुले में शौच से मुक्त करने और संपूर्ण स्वच्छता से जोडऩे के लिए चलाए जा रहे अभियान को और प्रभावी बनाने के लिए यह नियम जोड़ा गया है। अब शौचालय बनवाने के बाद स्वच्छता अभियान से जुड़े कर्मचारी को इसके साथ खुद की सेल्फी लेकर वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी। इसके पीछे अभियान को और गति प्रदान करने की मंशा है। अभियान में अब तक केवल बनवाए गए शौचालयों की फोटो को वेबसाइट पर अपलोड किया जाता था। जिससे यह पता लगाना संभव नहीं हो पाता था कि यह फ...
Make-500-Community-Toilets-in-Haridwar

हरिद्वार में बनेंगे पांच सौ कम्युनिटी शौचालय

103 सप्ताह पहले
खुले में शौच से मुक्ति दिलाकर गंगा को स्वच्छ व निर्मल बनाने को प्रदेश सरकार ने कवायद तेज कर दी है। शहर में पांच सौ कम्युनिटी शौचालय बनाने की कवायद शुरू हो गई है। गंगा किनारे बसे मोहल्लों, विशेष कर हर की पौड़ी के सीसीआर से लेकर रोड़ीबेलवाला में कम्युनिटी शौचालय बनाने के लिए नगर निगम प्रशासन तैयारी में जुट गया है। महापौर मनोज गर्ग ने कहा कि शहर में गंगा किनारे की बसे सामान्य आबादी वाले मोहल्लों के अलावा मलिन बस्तियों में लोगों को खुले में शौच जाने से मुक्त करने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत 500 कम्युनिटी और मलिन बस्तियों में 100 मोबाइल बायो डाइजेस्टर शौचालय बनने हैं। मार्च 2018 तक दोनों प्रकार के शौचालयों का निर्माण हो जाएगा। शौचाल...
Clean-Simdega-Motivator

साफ सिमडेगा के प्रेरक

103 सप्ताह पहले
जिला जल एवं स्वच्छता विभाग के तत्वावधान में 'स्वच्छ भारत मिशनÓ के अंतर्गत जिला स्तरीय समुदाय आधारित संपूर्ण स्वच्छता विधि पर 5 दिवसीय प्रेरकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके तहत जिले की 94 पंचायत के 2-2 लोगों को प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण प्राप्त कर इन लोगों द्वारा गांव स्तर के लोगों को स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण, उपयोग तथा खुले में शौच से होनेवाली बीमारियों के बारे में ग्रामीणों को जागरूक किया जाएगा। इस प्रशिक्षण के तहत 153 स्वच्छता ग्राही को तैयार किया गया। अब सिमडेगा जिला को 90 दिनों के अंदर खुले में शौच से मुक्त करने का प्रयास किया जाएगा।
 Cleanliness-Campaigns-Start-with-School-Children

बच्चों के साथ स्वच्छता अभियान की शुरुआत

103 सप्ताह पहले
नई दिल्लीः दिल्ली से सटे गौतमबुधनगर में सोमवार को रेयान इंटरनेशनल स्कूल में एनसीसी की 31 कन्या वाहिनी ने स्वच्छता अभियान चलाया। इस दौरान बच्चों ने स्कूल परिसर की साफ सफाई की। इस दौरान छात्राओं ने स्वच्छता पर आधारित पोस्टर भी बनाए। इसी के साथ स्वच्छता की शपथ भी ली। जबकि गाजियाबाद में स्वास्थ्य विभाग ने विश्व मलेकिंया दिवस के मौके पर मंगलवार को जागरूकता रैली निकाली। स्कूली बच्चों के द्वारा बढ़ चढ़कर भाग लेकर आयोजित इस कार्यक्रम में सरकारी अस्पतालों, सीएचसी व पीएचसी, सीएमओ कार्यालय, एमएमजी और संयुक्त अस्पताल में लोगों को जागरूक करने के लिए रैली निकाली गई।...
 Man-got-Married-before-makes-Toilet-Every-House-in-Hivare

गांव के हर घर में बनवाया शौचालय

104 सप्ताह पहले
नाशिकः एक ग्रामसेवक की जिद्द आज हर जगह चर्चा का विषय बन गई है। यह वाकया नाशिक जिले के हिवारे गांव का है। यहां के ग्राम सेवक किशोर विभूते ने संकल्प लिया था कि जब तक वे अपने गांव के हर घर में शौचालय नहीं बनवा देते तब तक शादी नहीं करेंगे। उस गांव में घरों की संख्या कुल 351 है।  तीन साल पहले साल जब जानकारी ली गई तब पता चला कि शौचालय की संख्या मात्र 174 है। बाकी घरों के लोग खेतों, सड़क किनारे या खाली जगहों पर जाते हैं।  तभी विभूते ने मन ही मन तय कर लिया कि वे हर घर में शौचालय बनवा कर ही दम लेंगे। उन्होंने लोगों को प्रेरित करना शु...
Real-Times-Water-Quality-Monitoring-Station-for-River-Ganga

जल गुणवत्ता निगरानी स्टेशन

106 सप्ताह पहले
नई दिल्ली: सरकार ने गंगा में प्रदूषण की निगरानी के लिए  गंगाऔर इसकी बड़ी सहायक नदियों के किनारे 113 वास्तविक समय (रीयल टाइम) जल गुणवत्ता निगरानी स्टेशन (आरटीडब्ल्यूक्यूएमएस) स्थापित करने की योजना बना रही है। जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण राज्य मंत्री विजय गोयल ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गंगा और इसकी बड़ी सहायक नदियों (यमुना, रामगंगा, काली नदी)  के किनारे आरटीडब्ल्यूक्यूएमएस स्टेशन स्थापित किए जाने का प्रस्ताव है। प्रथम चरण के तहत फिलहाल 36 ऐसे आरटीडब्ल्यूक्यूएमएस स्थापित किए ग...
Agra-will-be-ODF-Free-city

आगरा होगा ओडीएफ मुक्त

106 सप्ताह पहले
आगरा के जिलाधिकारी गौरव दयाल ने स्वच्छ भारत मिशन के संबंध में समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक में बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले को पूर्ण रूप से खुले में शौचालय मुक्त कराने का लक्ष्य इस साल के आखिर तक हासिल कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया की प्रथम चरण में 150 गांवों को खुले में शौचालय मुक्त कराया गया था। दूसरे चरण के तहत लगभग सवा दो लाख गांवों को ओडीएफ मुक्त कराने का लक्ष्य इस साल के अंत तक पूरा कर लेंगे। जिलाधिकारी ने बताया कि जिलास्तरीय अधिकारियों को इंचार्ज बनाया जाएगा, जो गांवों में लोगों को एकत्र कर खुले में शौचालय के हानिकारक प्रभावों को बताएंगे तथा शौचालय बनाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। इस कार्यक्रम के तहत शासन द्वारा 12 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि लाभार्थी को दी...
Date-of-nature-conditions

प्रकृति का तारीखी हाले-बयां

106 सप्ताह पहले
बीसवीं सदी बीतते-बीतते पारिस्थितिकी व पर्यावरण को लेकर होने वाली चिंता ने एक ग्लोबल शक्ल ले ली है। इस जागरूकता ने जीवन और प्रकृति के संबंधों और सरोकारों को जहां साथ जोड़ा, वहीं कई जिज्ञासाएं और प्रश्न भी खड़े किए हैं। ये सवाल महज प्रदूषण या जल संकट को लेकर नहीं हैं, बल्कि पारिस्थितिकी की अब तक की रचना प्रक्रिया, उसके विकास और स्वरूप से जुड़े हैं। इनका अध्ययन एक वैज्ञानिक और ऐतिहासिक अध्ययन की मांग करता है। अध्ययन की इस चुनौती को कई लेखकों और पर्यावरण प्रेमियों ने अलग-अलग तरीके से स्वीकार भी किया है, पर वरिष्ठ इतिहासकार इरफान हबीब ने इस दरकार को अपने इतिहास बोध और दृष्टि के साथ एक विस्तृत अध्ययन के रूप में सामने रखा है। हबीब का यह ...
special-campaign-for thirty-districts

तीस जिलों में विशेष अभियान

106 सप्ताह पहले
अब हर घर में शौचालय बनेगा और खुले में कोई शौच नहीं जाएगा। ओडीएफ योजना में चयनित उत्तर प्रदेश के तीस जिलों में कानपुर देहात का भी नाम है। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों को इस बाबत निर्देश दिए गए हैं। अब अधिकारी गांवों का निरीक्षण कर योजना पर अमल करने को काम शुरू करेंगे। स्वच्छता अभियान के तहत गांवों को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) करने के लिए सरकार का प्रयास तेजी से चल रहा है। ओडीएफ योजना में प्रदेश में तीस जिले चयनित किए गए हैं, जिन्हें पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त किया जाएगा। इसमें कानपुर देहात भी शामिल है। पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार के सचिव परमेश्वर अय्यर व मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग...
open-defecation-free-very-challenging-india

खुले में शौच यानी खतरों को न्योता

107 सप्ताह पहले
देश में स्वच्छता को लेकर जो कदम उठाए जा रहे हैं, उसमें सबसे चुनौतीपूर्ण है भारत को पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त देश बनाना। इस तरह की मिसालें देश के तमाम हिस्सों और खासतौर पर सुदूरवर्ती कस्बों से आ रही हैं, उससे यह साफ है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना हर लिहाज से पूरा होने की राह पर है। सुलभ प्रणेता डॉ. विन्देश्वर पाठक का सपना भी यही है। 2019 यानी महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर उन्हें खुले में शौच से मुक्त भारत अर्पित करने का डॉ. पाठक का दृढ़ संकल्प है। इस सपने और इरादे को पूरा होना इसीलिए भी जरूरी है, क्योंकि खुले में शौच की प्रथा स्वास्थ्य के लिहाज से लंबे समय से हमारे लिए बड़ा खतरा रही है। एक अनुमान के मुताबिक भारत की बड़ी आबादी खुले में शौच जाने को मजबूर है। ...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो