sulabh swatchh bharat

रविवार, 23 सितंबर 2018

पुरानी कब्रों में मिले रेशम के अवशेष

यह प्राचीन चीन में रेशम पाए जाने का सबसे पुराना प्रमाण है

शोधकर्ताओं को चीन की करीब 8,500 साल पुरानी कब्रों में रेशम पाए जाने के प्रमाण मिले हैं। रेशम पाए जाने के इन नए प्रमाणों से लगता है कि हजारों साल पहले भी लोग रेशम से बने आलीशान कपड़ों का इस्तेमाल करते रहे होंगे। इससे पहले भी वैज्ञानिकों ने इस स्थान में हड्डी से बनी बांसुरी का पता लगाया था। जो अभी तक धरती का ज्ञात सबसे पुराना वाद्य यंत्र है। चीन की यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नॉलजी के पुरातत्व वैज्ञानिक डेचाई गोंग ने बताया कि वैज्ञानिकों ने मध्य चीन के हेनान प्रांत के जिआहू में पाए जाने वाले करीब 9,000 साल पुराने खंडहरों का अध्ययन किया। चीन की पुरानी कहानियों में भी इस इलाके में रेशम के कीड़ों के प्रजनन और रेशम बुनाई के प्रसंग पाये जाते हैं। जिआहू पर किए गए पुराने शोध में पाया गया कि इस इलाके की गर्म और आर्द्र जलवायु शहतूत के पेड़ों के लिए अनुकूल है, जो रेशम के कीड़ों के लिए एकमात्र खाद्य सामाग्री है। वैज्ञानिकों ने जिआहू की तीन कब्रों की मिट्टी के नमूने भी इक्कठे

  किए। इसके बाद रसायन वैज्ञानिकों ने यहां की तीन में से दो कब्रो में रेशम प्रोटीन पाए जाने के बारे में बताया, इसमें से एक कब्र तो करीब साढ़े आठ हजार साल पुरानी है। गोंग ने बताया, 'यह प्राचीन चीन में रेशम पाए जाने के सबसे पुराने प्रमाण हैं।, शोधकर्ताओं ने बताया कि इससे पहले चीन में करीब 5,000 साल पहले रेशम पाए जाने के प्रमाण मिले थे। इससे पहले शोध वैज्ञानिकों को हड्डी से बनी सुइयां और बुनाई के उपकरण मिले थे, जिससे पता चलता था कि यहां के लोग बुनाई और सिलाई जैसे कामों में पारंगत थे। अब रेशम के सबूत मिलने के बाद यह संभावना जताई जा रही है कि शायद मृतकों को उनके रेशमी वस्त्रों के साथ कब्रों में दफना दिया गया होगा। रेशम के संबंध में यह अध्ययन एक शोध पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। (भाषा)



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो