sulabh swatchh bharat

शनिवार, 20 अक्टूबर 2018

शिक्षा से लिंग भेदभाव में आया बदलाव

रांची। झारखंड में शिक्षा के माध्यम से लिंग भेदभाव ख़त्म करने में बड़ा बदलाव आया है । यह बात एक अध्ययन में सामने आई है । इसके प्रसार करने से प्रदेश में एक-चौथाई छात्राओं में दूसरी छात्राओं की मदद की प्रवृत्ति बढ़ती देखी गयी।

जेंडर इक्विटी मूवमेंट इन स्कूल्स (जेम्स) द्वारा रांची एवं आदिवासी बहुल खूंटी जिलों में कुल 80 विद्यालयों में लिंग समानता की शिक्षा देने पर तीन माह के भीतर ही छात्र-छात्राओं में बड़ा व्यावहारिक बदलाव देखने को मिला।

जेम्स ने अपना अध्ययन जारी किया और इसमें बताया कि झारखंड के इन विद्यालयों में तीन माह तक लिंग भेदभाव समाप्त करने के लिए बच्चों को दी गयी। इसके बाद किये गये सर्वेक्षण में पाया गया कि जहां पहले सिर्फ 47. 9 प्रतिशत छात्राएं अपने साथ किसी प्रकार की शारीरिक हिंसा होने पर उसका प्रतिरोध करती थीं अथवा उसके बारे में शिक्षकों एवं परिजनों को बताती थीं। वहीं तीन माह के प्रशिक्षण के बाद यह संख्या बढ़कर 71. 5 प्रतिशत हो गई।

इसी प्रकार दूसरी छात्राओं के खिलाफ शारीरिक हिंसा होने पर जहां पहले लगभग 18 प्रतिशत छात्राएं मूकदर्शक बनी रहती थीं अथवा हिंसा करने वालों के साथ आनंद उठाती थीं। वहीं शिक्षा के बाद यह संख्या घटकर सिर्फ 13. 4 प्रतिशत रह गई।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो