sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

छत्तीसगढ़ ने बनाया एसडीआरएफ

रायपुर। छत्तीसगढ़ में प्राकृतिक और आकस्मिक संकट की घड़ी में बचाव-राहत कार्यों के लिए एनडीआरएफ की तर्ज पर एसडीआरएफ का गठन किया गया है।

आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बिलासपुर जिले के भरनी (परसदा) गांव में राज्य आपदा मोचन बल के प्रशिक्षण केन्द्र का शुभारंभ किया। इस केन्द्र के लिए लगभग दो करोड़ 10 लाख रूपए की लागत से निर्मित छात्रावास, प्रशासनिक भवन और सैनिक बैरक का भी लोकार्पण किया। इस दौरान सिंह ने कहा कि अतिवृष्टि, बाढ़ और अग्नि दुर्घटना जैसी प्राकृतिक और आकस्मिक विपदाओं के समय यह आपदा मोचन बल काफी उपयोगी साबित होगा। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण केन्द्र को लगभग 17 करोड़ रूपए की लागत से विकसित किया जाएगा।

अधिकारियों ने बताया कि केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की तर्ज हाल ही में छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) का गठन किया है। इसमें होमगार्ड तथा नागरिक सुरक्षा संगठन के जवानों को अग्नि दुर्घटना सहित विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं से निपटने तथा इन आपदाओं के दौरान राहत और बचाव उपायों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। आम नागरिक भी वहां प्रशिक्षण प्राप्त कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने इस केन्द्र का शुभारंभ करते हुए एसडीआरएफ की सफलता के लिए अपनी शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि इसकी जरूरत काफी समय से महसूस की जा रही थी। आज यह जरूरत पूरी हुई। इस केन्द्र से प्रशिक्षित होकर एसडीआरएफ के जवान किसी भी प्राकृतिक संकट के समय लोगों के जानमाल की रक्षा के लिए पूरी मुस्तैदी से काम करेंगे।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो