sulabh swatchh bharat

बुधवार, 21 नवंबर 2018

उड़ान को तैयार ‘उड़ान’

नई दिल्ली। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) की क्षेत्रीय वायु संपर्क योजना ‘उड़े देश का आम नागरिक’ (उड़ान) के तहत को 190 मार्गों के लिए 11 बोलीदाताओं से 43 शुरुआती प्रस्ताव मिले हैं। इससे अगले महीने से उड़ानों से वंचित कम से कम 43 क्षेत्रीय हवाई अड्डों पर उड़ानों का परिचालन शुरू हो जाएगा।

इस योजना के तहत एक घंटे की उड़ान के लिए अधिकतम किराया 2,500 रुपए होगा। सरकार की उड़ान योजना का मकसद अब तक हवाई सम्पर्क से वंचित या कम उड़ान सुविधाओं वाले हवाई अड्डों से हवाई संपर्क उपलब्ध कराना और विमान यात्रा को सस्ता करना है।

नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि इस योजना के तहत पहली उड़ान फरवरी में संभव हो पाएगी। जैसलमेर (राजस्थान) और कूच बिहार (पश्चिम बंगाल) सहित कई हवाई अड्डे इसके लिए तैयार हैं। सिन्हा ने उड़ान को पासा पलटने वाला तथा बड़ा बदलाव बताते हुए कहा कि योजना के तहत भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) को 190 मार्गों के लिए 11 बोलीदाताओं से 43 शुरुआती प्रस्ताव मिले हैं।

सिन्हा ने कहा, ‘फिलहाल देश में 75 परिचालन वाले हवाई अड्डे हैं। अभी उड़ान के तहत हमें जो बोलियां मिली हैं उसके अनुसार हमारे विमानन नेटवर्क में 43 नए हवाई अड्डे जुड़ने वाले हैं। उड़ान के क्रियान्वयन के बाद हमारे परिचालन वाले हवाई अड्डों की संख्यया 118 हो जाएगी।’

 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो