sulabh swatchh bharat

मंगलवार, 13 नवंबर 2018

500 स्कूलों में लीगल लिट्रेसी क्लब

रांची। झारखंड के 500 स्कूलों में लीगल लिट्रेसी क्लब की शुरुआत की गई है। यह देश का पहला राज्य है, जहां पांच सौ विद्यालयों में लीगल लिट्रेसी क्लब की स्थापना की जा रही है।

झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू एवं मुख्यमंत्री रघुबर दास ने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा के साथ पांच सौ विद्यालयों में एक साथ ऑनलाइन विधिक साक्षरता क्लब (लीगल लिट्रेसी क्लब) का शुभारंभ किया और कहा कि बच्चों में बौद्धिक जानकारी का विकास करने की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम साबित होगा।

मुख्यमंत्री दास ने कहा कि कानूनी ज्ञान के लिए भी देश में एक चैनल होना चाहिए। इस विषय में वह केन्द्र सरकार से अनुरोध करेंगे। उन्होंने कहा कि शोषितों, वंचितों, दलितों एवं पिछड़ों का सहारा होता है संविधान और सरकार। समाज की मुख्यधारा में आने के लिए उन्हें संविधान की, न्यायिक प्रक्रिया की एवं सरकारी योजनाओं की भी जानकारी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों को ज्ञान प्राप्त करने में सुविधा हो इसलिए अगले बजट में कॉलेज में वाई-फाई की व्यवस्था करने पर विचार किया जा रहा है। नौवीं एवं 10वीं से ही स्कूलों में कम्प्यूटर के साथ-साथ वोकेशनल ट्रेनिंग दी जाएगी। इससे झारखण्ड के बच्चे शुरू से ही हुनरमंद बनेंगे।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो