sulabh swatchh bharat

सोमवार, 16 जुलाई 2018

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी

नई दिल्ली। उच्च शिक्षण संस्थाओं के लिए सीबीएसई जैसी संस्थाओं से प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करने के बोझ को कम करने की पहल करते हुए सरकार ने सभी प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करने के लिए स्वायत्त और स्व-संपोषित प्रमुख परीक्षा संगठन के रूप में राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी की स्थापना का प्रस्ताव किया है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संसद में आम बजट 2017-18 प्रस्तुत करते हुए कहा कि सरकार ने उच्च शिक्षण संस्थाओं के लिए सभी प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करने के लिए स्वायत्त और स्व-संपोषित प्रमुख परीक्षा संगठन के रूप में राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) की स्थापना का प्रस्ताव किया है। उन्होंने कहा कि इससे सीबीएसई,एआईसीटीई और अन्य प्रमुख संस्थानों को इन प्रशासनिक उत्तरदायित्वों से मुक्त कर दिया जाएगा, ताकि वे शैक्षिक कार्यों पर अधिक ध्यान दे सकें।

वित्त मंत्री ने बजट में वार्षिक ज्ञान परिणाम मापने की प्रणाली शुरू करने का भी प्रस्ताव किया। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में वार्षिक ज्ञान परिणाम को मापने के लिए एक प्रणाली शुरू की जाएगी। इसके साथ ही स्थानीय नवाचार सामग्री के जरिए सृजनात्मकता को बढ़ावा देने के लिए विज्ञान, शिक्षा एवं पाठ्यक्रम में लचीलेपन पर विशेष ज़ोर दिया जाएगा।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो