sulabh swatchh bharat

मंगलवार, 19 जून 2018

ग्रामीण पहल से सड़क निर्माण

गुवाहाटी। बार-बार गुहार लगाने के बावजूद असम सरकार की तरफ से कोई प्रगति नहीं होते देख राज्य के बोरो रोबी गांव के लोगों ने खुद से सड़क का निर्माण किया।

राज्य के दीमा हसाओं में बोरो रोबी के ग्रामीणों ने समाज के सामने एक मिसाल पेश करते हुए अपने दम पर छह किलोमीटर सड़क का निर्माण कराया है। वर्षों से प्रशासन का दरवाजा खटखटाने के बाद ग्रामीण इस समस्या का हल निकालने के लिए एक सामाजिक कार्यकर्ता अचिंग जेम के पास पहुंचे। जेम ने बताया, ‘ग्रामीण कई बार सरकार के पास इस समस्या लेकर गए लेकिन कभी भी उनके तरफ से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली। इसके बाद वे लोग मेरे पास आए और आग्रह किया कि अगर मैं उन लोगों को सहयोग कर संकू तो वे लोग अपने दम पर खुद से पहल कर सड़क का निर्माण कर सकते हैं। शुरुआत में, मुझे उनके प्रस्ताव पर थोड़ा आश्चर्य भी हुआ। फिर उन लोगों की हालत देखने के बाद अंतत: मैंने कुछ करने का फैसला किया।’ शुरुआती पड़ताल के बाद यह निश्चित हुआ कि सड़क बनाकर बोरो रोबी को जायकांग गांव के साथ जोड़ा जाए जहां मनरेगा के तहत मोटर चलने लायक सड़क बनाई गई है।
सड़क निर्माण के लिए कुल अनुमानित लागत 1.5 लाख रुपए थी। जिसे आपसी सहयोग से जुटाया गया। निर्माण का कार्य 26 नवंबर को शुरू हुआ था और इसी हफ्ते इस काम को पूरा भी कर लिया गया है।
 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो