sulabh swatchh bharat

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

रैन बसेरों की ‘सुप्रीम’ सुध

नई दिल्ली। ठंड ने दस्तक देनी शुरू कर दी है। ऐसे में खुले आसमान के नीचे फुटपाथ पर रात गुजारने वालों को एक अदद आशियाने की जरूरत पड़ेगी। बेसहारों को ठंड से बचाने के लिए दिल्ली में कई जगहों पर रैन बसेरे बने हैं। लेकिन इनकी स्थिति बेहतर नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में इसके लिए एक समिति का गठन किया है जो रैन बसेरों की सुध लेगी।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बने रैन बसेरों की स्थिति और उनमें उपलब्ध सुविधाओं की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित न्यायिक समिति का मूल उद्देश्य ठंड में रैन बसेरों में रात बिताने वालों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।  

ठिठुरती रात में रैन बसेरों में बहुत सारी मुश्किलों का सामना करने वालों के हित के लिए गठित इस कमिटी की अध्यक्षता उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश कैलाश गंभीर करेंगे।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो