sulabh swatchh bharat

बुधवार, 18 जुलाई 2018

दिव्यांग ने मुंह से बनाई वेबसाइट

विकलांगों को ऐसे ही दिव्यांग नहीं कहा जाता है। इसकी जीती-जागती मिसाल हैं महाराष्ट्र के सोलापुर निवासी डॉ. ज्ञानराज होमकर।

उन्होंने मुंह के सहारे ही वेबसाइट बना डाली है। कुछ ही दिनों में यह वेबसाइट पूरी तरह तैयार हो जाएगी। 2013 में ज्ञानराज नासिक के विज्ञान विश्वविद्यालय में बीएएमएस की पढ़ाई कर रहे थे। कॉलेज के फेयरवेल समारोह के दौरान रोप डांस करते हुए अचानक गिर गए और स्टेज पर ही बेहोश हो गए। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनके हाथ, पैरों ने काम करना बंद कर दिया। डॉक्टरों ने उन्हें स्थाई विकलांग घोषित कर दिया, लेकिन ज्ञानराज ने हार नहीं मानी और ऐसी हालत में ही चार साल तक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी की। अब इस अनुभव के आधार उन्होंने यह वेबसाइट बनाई है। हाल ही में ज्ञानराज ने युवाओं को प्रेरणा देने वाला एक वीडियो बनाया है। जो यूट्यूब पर काफी लोकप्रिय हो रहा है। कई शहरों में जाकर ज्ञानराज मोटीवेशनल स्पीच भी देते हैं। हाथों से काम करना मुश्किल है इसलिए ज्ञानराज ने कंप्यूटर हैंडलिंग के लिए मुंह में पकड़ी जाने वाली एक सेंसर स्टिक बनाई है। इसके माध्यम से वह वेबसाइट की कोडिंग करते है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो