sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

प्रगति मैदान बनेगा हाईटेक

नई दिल्ली। राजधानी स्थित प्रगति मैदान को 2,254 करोड़ रुपए की लागत से एक विश्वस्तरीय प्रदर्शनी एवं सम्मेलन केन्द्र के रूप में विकसित किया जाएगा। इसका पहला चरण करीब ढाई साल में तैयार हो जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति (सीसीईए) की बैठक में यह निर्णय लिया गया। प्रगति मैदान को नये सिरे से एक आधुनिक वैश्विक प्रदर्शनी और सम्मेलन केन्द्र के रूप में दो चरणों में विकसित किया जायेगा। इसका पहला चरण मई 2019 तक पूरा होने की उम्मीद है। एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, सीसीईए ने भारत व्यापार संवर्धन संगठन (इटपो) के इस संबंध में दिये गये प्रस्ताव को मंजूर कर लिया है। इटपो वाणिज्य विभाग के तहत काम करने वाला पहली श्रेणी का एक मिनी रत्न है। इसमें कहा गया है, ‘इस पूरी परियोजना की लागत 2,254 करोड़ रुपए होगी। परियोजना के वित्तपोषण के लिये इटपो अपने मुक्त कोष में से 1,200 करोड़ रुपए इस्तेमाल करेगा।’ इसके अलावा इटपो शेष 1,054 करोड़ रुपए की राशि के लिये सरकारी गारंटी के साथ वित्तीय संस्थानों, बहुपक्षीय संस्थानों से सस्ता कर्ज जुटायेगा। इसके अलावा जमीन के एवज में भी वह कुछ राशि जुटाएगा।

विज्ञप्ति के अनुसार पहले चरण में प्रगति मैदान की 3.26 लाख वर्गमीटर भूमि को विकसित किया जायेगा। नये सिरे से विकसित होने के बाद प्रदर्शनी स्थल मौजूदा 65,000 वर्गमीटर से दोगुना होकर 1.19 लाख वर्गमीटर हो जायेगा। सीसीईए द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ‘प्रगति मैदान की पुनर्विकास योजना से यहां 7,000 लोगों के बैठने की क्षमता वाला अत्याधुनिक विशाल सम्मेलन केन्द्र भी तेयार किया जायेगा।’ इटपो ने इस समूची परियोजना के लिये परियोजना प्रबंधन सलाहकार के तौर पर राष्ट्रीय भवन निर्माण निगम लिमिटेड (एनबीसीसी) को नियुक्त किया है। परियोजना निर्माण के लिये इटपो वैश्विक बोलियां आमंत्रित करेगा।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो