sulabh swatchh bharat

सोमवार, 19 फ़रवरी 2018

शैक्षिक बोर्ड में आईटीआई

गांधीनगर। केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि आईटीआई को शिक्षा बोर्ड के अंतर्गत लाने की योजना है जिससे इन संस्थानों में व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम कर रहे छात्र मैट्रिक और उच्च माध्यमिक प्रमाण पत्रों के लिए अहर्ता प्राप्त करेंगे।

कौशल विकास और उद्यमिता राज्य मंत्री ने कहा, ‘आईटीआई को एक शिक्षा बोर्ड के तले लाया जा रहा जहां आईटीआई मैट्रिक और उच्च शिक्षा प्रमाणपत्रों के समतुल्य होगा और इसके लिए जरूरी दो और विषयों को आईटीआई पाठ्यक्रम के तहत रखा जाएगा ताकि छात्रों को प्रमाणपत्र के लिए भटकना ना पड़े।’ रूडी आठवें वाइब्रेंट गुजरात वैश्विक शिखर सम्मेलन में कौशल और मानव पूंजी पर आयोजित एक सेमिनार में बोल रहे थे।

रूडी ने कहा कि पहले आईटीआई से उतीर्ण होने वाले करीब 23 लाख छात्र मैट्रिक प्रमाणपत्रों के लिए अहर्ताप्राप्त नहीं हो पाते थे और मैट्रिक करने के बाद आईटीआई करने वालों को उच्च शिक्षा प्रमाणपत्रों के लिए मान्यता नहीं मिलती थी जिससे शैक्षिक गति नहीं बढ़ती थी।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो