sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

तीन भाषाएं अनिवार्य नहीं

नई दिल्ली। सीबीएसई की दसवीं की बोर्ड परीक्षा में तीन भाषाओं को अनिवार्य करने के प्रस्ताव के 2019-20 के शैक्षिक सत्र से पहले लागू हो पाने की उम्मीद कम है।

सीबीएसई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सीबीएसई ने दिसंबर में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा थाजिसके तहत दसवीं की बोर्ड परीक्षा दे रहे छात्रों को तीन भाषाएं पढ़नी होंगीजिसमें अंग्रेजी एक मुख्य विषय होगा। मौजूदा समय में ये फॉर्मूला सीबीएसई के स्कूलों में सिर्फ आठवीं कक्षा तक लागू हैजबकि दसवीं के छात्रों को अंग्रेजी समेत दो भाषाएं पढ़नी होती हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘ये प्रस्ताव 2019-20 के सत्र तक दसवीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले बैचों पर लागू नहीं होगा क्योंकि सरकार मौजूदा योजना में पढ़ रहे छात्रों को परेशान नहीं करना चाहती।’ नई योजना के तहत छात्रों को आठवीं अनुसूची में सूचीबद्ध भारतीय भाषाओं में से किन्हीं दो को पढ़ना होगा। तीसरी भाषा अंग्रेजी होगी। तीनों भाषाएं दसवीं की बोर्ड परीक्षा में मुख्य विषय होगी।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो