sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

कैशलेस की ओर एसडीएमसी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया की अवधारणा और नकदी रहित लेन देन लागू करने की आवश्यकता को देखते हुए दक्षिणी निगम ने एक बड़ा कदम उठाया है। दक्षिणी नगर निगम के आयुक्त पुनीत गोयल ने इस कदम का विवरण देते हुए वतर्मान नकदी लेन देन के स्थान पर नकदी रहित प्रणाली अपनाने की निगम की प्रतिबद्धा दौहराई है।

इसके तहत विज्ञापनपालतू कुत्तों के पंजीकरणकार पार्किंग शुल्कसभी व्यापार लाइसेंसबारात घर और सामुदायिक भवनों की बुकिंगपार्कां और सड़क किनारे के पेड़ों से संबंधित शुल्कएलएंडडीए से मार्किट का स्थानांतरणभवन और भूमि की बिक्रीफ्री होल्ड कराने के शुल्क और निजी पक्षों से विकास शुल्क की प्राप्तियों को पूरी तरह नकदी रहित कर दिया गया है। ये डेबिट कार्डक्रेडिट कार्डपे वेलेटइंटरनेट बैंकिग से स्वीकार किए जाएंगे। नए वाहनों पर एक बार देय-शुल्क (नगर निगम की भूमि के शुल्क)वाहनों पर एक बार देय पार्किंग शुल्कटोल टैक्स, डीडीए के डिफिएंसी चार्ज और विकास शुल्क केवल आर टी जी एस से स्वीकार किए जाएंगे। इसके अलावा बिजली कर केवल आरटीजीएसएनईएफटी से स्वीकार किए जाएंगे। संपत्ति करथियेटर करभवन आवेदन करघोड़े से चलने वाले वाहन का करनीलामी से प्राप्त आमदनी और किरायाफुटकर प्राप्तियां और जन्म और मुत्यु पंजीकरण शुल्क की 500 रुपए तक की राशि नकद प्राप्त की जाएगी। इससे अधिक की राशि डेबिट कार्डक्रेडिट कार्डपे वेलेटइंटरनेट बैंकिग से स्वीकार की जाएगी। निगम मजिस्ट्रेट से लगाए गए जुर्मानाअवैध पशु वध के लिए जुर्माना और विद्युत शवदाह गृह के शुल्क नकद और डेबिट कार्डक्रेडिट कार्डपे वेलेटइंटरनेट बैंकिग से स्वीकार किए जाएंगे।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो