sulabh swatchh bharat

सोमवार, 20 मई 2019

बवाना बिजली संयंत्र चालू

उपराज्यपाल अनिल बैजल की पहल पर पर्यावरण-प्रदूषण की समस्या को देखते हुए बवाना बिजली संयंत्र चालू करने के लिए बैठक की।

नई दिल्लीः थर्मल पावर प्लांटों से प्रदूषण की समस्या को देखते हुए एनजीटी व पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) ने दिल्ली सरकार को कई दफा गैस आधारित बवाना बिजली संयंत्र को पूरी तरह चालू करने का निर्देश दिया था। लेकिन दिल्ली सरकार केंद्र से महंगी दरों पर गैस मिलने का तर्क देकर असमथर्ता जताती रही। अब उपराज्यपाल अनिल बैजल की पहल पर बवाना बिजली संयंत्र के चंद महीने बाद चालू होने की उम्मीद जग गई है।

उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली के उर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन, दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव एमएम कुट्टी सहित संबंधित विभाग के सभी आला अधिकारियों की एक बैठक कर केंद्र सरकार से सस्ती दरों पर गैस दिलाने में मदद करने की बातें कही है। उपराज्यपाल ने सभी बारीकियों की जानकारी लेते हुए कहा कि केंद्र सरकार से सस्ती दरों पर गैस दिलाने का आश्वासन मिल गया है और उम्मीद है कि अब यह समस्या दूर हो जाएगी और दिल्ली के लोगों को राहत मिलेगी। इस बाबत कुछ महीने पहले केंद्रीय पेट्रोलियम व गैस मंत्री धर्मेद्र प्रधान और दिल्ली सरकार के बीच गैस की उपलब्धता को लेकर पत्राचार भी हुआ लेकिन गैस के दाम को लेकर मामला आगे नहीं बढ़ सका था। अब उपराज्यपाल की पहल के बाद यह समस्या दूर हो गई है।
 

बता दें कि बवाना में 1500 मेगावाट क्षमता का बिजली संयंत्र है। कांग्रेस के शासन काल में दिल्ली सरकार ने साल 2012 में 45 सौ करोड़ की लागत से 15 सौ मेगावाट की क्षमता वाला बवाना बिजली संयंत्र बनाया था। संयंत्र में कुल छह इकाई हैं जिसमें से चार गैस से तथा इन इकाइयों से उत्पन्न होने वाले वाष्प से दो अन्य इकाईयां बिजली उत्पन्न करती है। 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो