sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 22 जून 2018

अनिरूद्ध राजपूत सीआईएल के पहले भारतीय सदस्य

पहली बार किसी भारतीय वकील को संयुक्त राष्ट्र के अंतरराष्ट्रीय कानून आयोग जैसी संस्था की सदस्यता मिली है। यह गौरव 33 वर्षीय कानूनविद अनिरूद्ध राजपूत को मिला

भारतीय युवा वकील अनिरूद्ध राजपूत अंतरराष्ट्रीय कानून आयोग (सीआईएल) के सबसे युवा भारतीय सदस्य बनने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। उन्होंने प्रशांत एशिया समूह में सबसे अधिक मत हासिल भी किया है। विदेश मंत्रालय के वकीलों के पैनल में न रहते हुए इंटरनेशनल लॉ कमीशन पहुंचने वाले भी वह पहले भारतीय उम्मीदवार हैं। 33 वर्षीय अनिरूद्ध राजपूत अन्य 34 नए सदस्यों के साथ जनवरी 2017 से पांच वर्ष के कार्यकाल के लिए इंटरनेशनल लॉ कमीशन में सेवाएं देंगे। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1947 में अंतरराष्ट्रीय कानून आयोग की स्थापना की थी। इसके लिए सदस्यों का चयन अफ्रीकी, एशिया पैशेफिक, पूर्वी यूरोपीय, लातिन अमेरिकी एवं कैरेबियाई और पश्चिमी यूरोपीय देशों के पांच भौगोलिक समूहों से किया गया है। एशिया पैशेफिक समूह की मतदान प्रक्रिया में राजपूत को सबसे अधिक 160 मत मिले।

भारतीय उच्चतम न्यायालय में पिछले छह वर्ष से प्रैक्टिस करने वाले अनिरूद्ध लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस के पूर्व छात्र रह चुके हैं। राजपूत उस विशेषज्ञ समूह के सदस्य भी रह चुके हैं जिन्हें भारतीय कानून आयोग ने भारत मॉडल द्विपक्षीय निवेश संघ 2015 पर टिप्पणी करने एवं उसका अध्ययन करने के लिए नियुक्त किया था। राजपूत ने कानूनी विषयों पर कई पुस्तकें, अध्याय, लेख एवं सम्मेलन के पत्र लिखे हैं। अंतरराष्ट्रीय कानूनों के मामले में उन्हें विशेषज्ञता हासिल है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो