sulabh swatchh bharat

बुधवार, 23 मई 2018

चीन में हाथी दांत के व्यापार पर बैन

अंतरराष्ट्रीय दबाव और जनता के विरोध के बाद हुआ करार

अमेरिकी सरकार के साथ 2015 में हुए एक करार के बाद चीन इस साल के अंत तक हाथी दांत के व्यापार को पूरी तरह प्रतिबंधित कर देगा। दिलचस्प है कि चीन हाथी दांत के वैध-अवैध व्यापार के लिए पूरी दुनिया में कुख्यात है। एक आंकड़े के मुताबिक इस रोक से चीन के जरिए होने वाले दुनिया के करीब 70 फीसद हाथी दांत व्यापार में कमी आएगी। चीन की इस बड़ी पहल से हजारों हाथियों की जान शिकारियों के हाथ जाने से बच जाएगी। चीन अपनी इस इस पहल की शुरुआत 31 मार्च से करेगा। शुरू में जहां हाथी दांत की बिक्री और उसके व्यावसायिक इस्तेमाल पर रोक लगेगी, वहीं इसके बाद इस दायरे में रजिस्टर्ड हाथी दांत के कारोबारी आएंगे। चीन सरकार के इस बड़े फैसले की वहां के नागरिकों ने तो सराहना की ही है, वहीं 'सेव द एलफेंट्स ग्रुप’ ने अपने अध्ययन में कहा है कि चीन में हाथी दांत के कारोबार के खिलाफ गुजरे सालों में एक बड़ा जनमत बना है।

2012 में जहां वहां की आधी आबादी इसके खिलाफ थी, वहीं आज 71 फीसद से ज्यादा लोग इस जघन्य कारोबार के खिलाफ राय रखते हैं। इसी का नतीजा है कि वहां हाथी दांत के बाजार में 2012 से लेकर अब तक करीब 85 फीसद कमी आई है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो