sulabh swatchh bharat

सोमवार, 23 जुलाई 2018

बनेंगे मलजल शोधन संयंत्र

नए साल में नमामि गंगे कार्यक्रम को एक कदम आगे बढ़ते हुए राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) ने हरिद्वार और वाराणसी में मलजल शोधन संयंत्रों की स्थापना समेत कई परियोजनाओं को मंजूरी दी है। एनएमसीजी उत्तराखंड के ऋषिकेश और हरिद्वार, उत्तर प्रदेश के गढ़मुक्तेश्वर, झारखंड में साहिबगंज, पश्चिम बंगाल में कोलकाता और नवद्वीप में गंगा की सतह की सफाई के लिए ट्रैश स्कीमर्स, एक विशेष प्रकार की सफाई नौकाएं, भी तैनात करेगा। सरकारी आंकड़ो के अनुसार मिशन ने हरिद्वार के जगजीतपुर और सराई में 135.30 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से 68 एमएलडी और 14 एमएलडी क्षमता वाले दो मलजल शोधन संयंत्रों की स्थापना को मंजूरी दी है। वाराणसी के रमना में 120 करोड़ रुपए की लागत से 50 एमएलडी क्षमता वाले एक मलजल शोधन संयंत्र के क्रियान्वयन को सैद्धांतिक मंजूरी दी गई है। ये परियोजनाएं सार्वजनिक निजी साझेदारी से क्रियान्वित की जाएंगी।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो