sulabh swatchh bharat

बुधवार, 25 अप्रैल 2018

दवाओं के सस्ते दिन

केंद्र सरकार ने डायबिटीज और एचआईवी जैसे कई रोगों की दवाएं सस्ता करने का फ़ैसला किया है। सरकार ने कुल 55 दवाओं के दाम में कटौती की है। इससे दवाएं सस्ती होगी तथा लोगों को सहूलियत भी मिलेगी।

 

केंद्र सरकार ने एचआईवी संक्रमण, मधुमेह, एंजाइना व घबराहट डिसआर्डर तथा अन्य रोगों के इलाज में काम आने वाली दवाओं की कीमत में कटौती की है। दवाओं के दाम में 44 प्रतिशत तक कटौती की गई है। राष्ट्रीय भेषज दवा प्राधिकार (एनपीपीए) ने इसके साथ ही 29 फॉम्र्यूलेशन की खुदरा कीमत भी तय की है। एनपीपीए के मुताबिक, 'एनपीपीए ने दवा (कीमत नियंत्रण) संशोधन आदेश 2016 के तहत अनुसूची-एक की 55 अधिसूचित फॉम्र्यूलेशन की अधिकतम कीमत संशोधित तय की है। इसी तरह डीपीसीओ 2013 के तहत 29 फॉम्र्यूलेशन की खुदरा कीमत तय की है। एनपीपीए के चेयरमैन भूपेंद्र सिंह ने कहा, 'कीमतों में 5 से 44  प्रतिशत तक की गिरावट आई है। औसत कमी 25 प्रतिशत है। दवा (कीमत नियंत्रण) आदेश (डीपीसीओ) 2013 के तहत एनपीपीए अनुसूची एक की जरूरी दवाओं की अधिकतम कीमत तय करता है। श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को स्वच्छता के मामले में डिविजन में पहला स्थान मिला है। यह सफलता 2015-16 के लिए कराए गए रेलवे के सर्वे में मिली है। इस मुकाम को हासिल करने में रेलवे स्टाफ के सकारात्मक प्रयास अहम रहे। स्टेशन परिसर अब एकदम साफ-सुथरा नज़र आता है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत चलाई गई मुहिम के तहत श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन के अधिकारियों ने स्टेशन को स्वच्छ बनाने के लिए अभियान चलाया। इसमें रेलवे कर्मचारियों ने स्वयं सफाई करने और दूसरों को भी स्वच्छता के लिए प्रेरित कर इस मुहिम से जोडऩे का निर्णय किया। स्टेशन अधीक्षक रमेश शर्मा, सीएमआई वेदप्रकाश शर्मा अन्य शाखाओं के अधिकारियों, कर्मचारियों ने यात्री प्रतीक्षालय के आगे, प्लेटफार्मों यहां प्लेटफार्मों पर रुकने वाली ट्रेनों में सफाई कर यात्रियों को स्वच्छता का संदेश दिया। यहां नियमित रूप से सफाई कर्मचारियों की ओर से की जाने वाली सफाई की मॉनीटरिंग की जाती है। इसी कारण श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को बीकानेर संभाग में सबसे स्वच्छ घोषित किया गया। अब यहां की सफाई में यात्री भी अपना सहयोग दे रहे हैं। खुले में कचरा नहीं डालकर वे डस्टबिन का उपयोग कर रहे हैं।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो