sulabh swatchh bharat

मंगलवार, 13 नवंबर 2018

कैशलेस अर्थव्यवस्था की ओर राजस्थान

जयपुर। राजस्थान सरकार ने केंद्र की कैशलेस अर्थव्यवस्था की संकल्पना को सफल बनाने के लिए कुछ अहम कदम उठाए हैं। देश में पहली नकदी रहित मेट्रो ट्रेन के साथ अजमेर कैशलेस जिला बनने की ओर अग्रसर है।

अजमेर के कलेक्टर गौरव गोयल ने कहा, ‘हमने ग्रामीण इलाकों में पांच लाख काडरें में से साढे तीन लाख रूपै कार्ड को सक्रिय करने के साथ साथ विश्व प्रसिद्व पुष्कर मेले के दौरान घोषित नोटबंदी को बैंक, होटल, गाइड की मदद से देशी विदेशी पर्यटकों के लिये कैशलैस सुविधा के जरिये इसे सफल बनाया है।’

उन्होंने बताया कि हमने अजमेर डेयरी के बूथ संचालक को डिजिटल भुगतान करने और उनके साथ जुडे अन्य लोगों को जागरूक बनाने का काम किया। हम ग्राम सेवकों की परीक्षा कराने मे लिप्त अध्यापकों का भुगतान डिजिटल करने के साथ हॉस्टल को भी कैशलैस करवा रहे हैं। जयपुर मेट्रो रेलवे के अधिकारियों ने दावा किया कि जयपुर मेट्रो देश में पहली कैशलेस मेट्रो ट्रेन बन गई है जिसमें सभी नौ स्टेशनों के लिये टिकट खरीदने सहित सभी लेनदेन कैशलेस कर दिए गए हैं।

जयपुर मेट्रो रेल कारपोरेशन लिमिटेड के निदेशक (आपरेशन और सिस्टम) सीएस जींगर ने बताया कि सभी नो स्टेशनों पर टिकट खरीदने, स्मार्ट कार्ड को रिचार्ज कराने सहित सभी कार्य डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए कराए जा सकते है।

राज्य बीमा एवं भविष्य निधि विभाग वरिष्ठ अतिरिक्त निदेशक कृष्णा राम इसरवाल ने बताया कि विभाग ने भी बीमा की राशि लाभ प्रदाता के सीधे बैंक खाते में अंतरण करने के आदेश जारी कर दिए है। पहले सेवानिवृत्त होने पर सभी सरकारी कर्मियों को बीमे की राशि का नकद भुगतान किया जाता था। वहीं प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग ने दावा किया है कि उनका विभाग बहुत पहले से ही कैशलेस बन चुका है।

उच्च शिक्षा विभाग के उपसचिव महावीर सिंह ने बताया कि हम लोग पहले से ही कैशलेस है। सभी प्रकार की फीस से लेकर छात्रों को दी जाने वाली छात्रवृति डिजिटल माध्यमों के द्वारा की जा रही है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो