sulabh swatchh bharat

सोमवार, 22 अप्रैल 2019

उपवास है डायबिटीज की अचूक दवा

आस्ट्रेलिया के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कैलोरी नियंत्रण के लिए डाइट को नियंत्रित करने की जगह सप्ताह में दो दिन का उपवास रखना ज्यादा कारगर है

डायबिटीज के शिकार लोगों के लिए ब्लड शुगर और वजन को नियंत्रित रखना बेहद जरूरी होता है। इसके लिए डॉक्टर उन्हें संतुलित खानपान या डायटिंग की सलाह देते हैं। मगर ऑस्ट्रेलिया स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कैलोरी नियंत्रित करने वाली डाइट की जगह डायबिटीज को अन्य तरीके से भी नियंत्रित किया जा सकता है। उन्होंने हफ्ते में दो दिन उपवास रखने और पांच दिन सामान्य खानपान रखने का सुझाव दिया है। शोध में उन्होंने दावा किया है कि इस तरह से भी हफ्ते में उनकी कैलोरी की खपत 600 कैलोरी ही रहेगी। दुनिया में पहली बार हुए अपनी तरह के इस शोध में विशेषज्ञों ने दावा कि टाइप 2 डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए वजन बहुत बड़ा कारण है। 
मोटापा टाइप 2 डायबिटीज होने का बहुत बड़ा कारण है। डायबिटीज नियंत्रित करने के लिए कैलोरी आधारित डायट लेना आम बात है। मगर लीवर में फैट की मौजूदगी से ब्लड शुगर को काबू करना मुश्किल हो जाता है। इससे शरीर इंसुलिन के खिलाफ प्रतिरोध करने लगता है। पूरे हफ्ते नियंत्रित डाइट लेना मुश्किल होता है खासतौर से उन लोगों के लिए जो एक तरह के खानपान पर नहीं टिक पाते हैं। इनकी स्थिति और खराब होने का खतरा होता है। इसीलिए हफ्ते में दो दिन उपवास करना भी बेहतर विकल्प हो सकता है। डायबिटीज के मरीज ऐसे भी अपनी हफ्तेभर की कैलोरी नियंत्रित कर सकते हैं। इसमें लगातार दो दिन उपवास नहीं रखना है, बल्कि अपनी सुविधा से कर सकते हैं। टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों को पौष्टिक खाना खाने की सलाह दी जाती है, ताकि उनका ब्लड शुगर का स्तर सामान्य रखा जा सके।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो