sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 21 जून 2019

मिजोरम में पहला मेडिकल कॉलेज खुलेगा

मिजोरम में पहला मेडिकल कॉलेज अगस्त में खुलने जा रहा है। इस कॉलेज की 85 प्रतिशत सीटें प्रदेश के छात्रों के लिए आरक्षित होंगी

मिजोरम में पहला मेडिकल कॉलेज अगस्त महीने से खुलने जा रहा है। मिजोरम इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल कॉलेज ऑफ रिसर्च के निदेशक एल.फिमेट ने बताया कि यह कॉलेज फलकॉन में स्थित है और यहां भारतीय मेडिकल परिषद (एमसीआई) के निर्देश के अनुरूप सभी तरह का जरूरी बुनियादी ढांचा मुहैया कराया गया है। उन्होंने कहा, 'एमसीआई ने कॉलेज की स्थापना के लिए अनुमति-पत्र की अनुशंसा की है।' मिजोरम के मुख्यमंत्री लाल थनहॉला ने राज्य में मेडिकल में दाखिला लेने के इच्छुक छात्रों की बढ़ रही संख्या को ध्यान में रखते हुए संस्थान के गठन की शुरुआत की है। 
इस बारे में फिमेट ने कहा, 'मिजोरम को इंफाल के रीजनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में हर साल सिर्फ 10 सीटें मिलती रही हैं। यह सेंट्रल कॉलेज है। मिजोरम के मेडिकल में प्रवेश के इच्छुक छात्रों के लिए देश के अन्य मेडिकल कॉलेजों में सीट मिलना लगभग नामुमकिन था।' इसके अलावा शुरुआत में कॉलेज की क्षमता 100 छात्रों की होगी। जिसमें कॉलेज की 85 फीसदी सीटें मिजोरम के छात्रों के लिए आरक्षित रखी गई हैं। फिमेट इससे पहले लगभग छह वर्षों तक रिम्स के निदेशक रहे। वह रिम्स में फॉरेंसिक साइंसेज के प्रमुख के पद पर भी रह चुके हैं। 
रिपोर्ट्स के अनुसार, यह मेडिकल कॉलेज 300 बिस्तर वाले सदर अस्पताल का हिस्सा होगा। इस अस्पताल की स्थापना 1896 में हुई थी। बताया जाता है कि, मेडिकल कॉलेज की स्थापना और मिजोरम सदर अस्पताल के नवीनीकरण के लिए 45 करोड़ रुपए की परियोजना तय की गई है। इसके अलावा फिलहाल पूर्वोत्तर राज्यों जैसे असम में पांच, त्रिपुरा व मणिपुर में दो-दो मेडिकल कॉलेज और मेघालय में पोस्ट-ग्रेजुएट मेडिकल संस्थान मौजूद हैं।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो