sulabh swatchh bharat

गुरुवार, 27 जून 2019

पोर्टेबल पेट्रोल पंप को मंजूरी

आपको जल्द ही सड़कों के किनारे 'मिल्क बूथ' की तरह पेट्रोल पंप भी मिलेंगे, जहां से आप खुद अपनी गाड़ी में पेट्रोल, डीजल या सीएनजी भर सकते हैं

भारत सरकार ने पिछले दिनों पोर्टेबल पेट्रोल पंप के कॉन्सेप्ट को मंजूरी दे दी है। जल्द ही आपको सड़कों के किनारे 'मिल्क बूथ' की तरह ये पेट्रोल पंप मिलेंगे, जहां से आप खुद अपनी गाड़ी में पेट्रोल, डीजल या सीएनजी भर सकते हैं। यह दुनिया के करीब 35 देशों में पहले से मौजूद और पहली बार भारत में इसका प्रयोग होने जा रहा है। जैसा की इसके नाम से ही जाहिर है, पोर्टेबल पेट्रोल पंप को आसानी से किसी स्थान पर ले जाया जा सकता है। इसमें कंटेनर के साथ फ्यूल डिस्पेंसिंग मशीन जुड़ी होती है। पूरे यूनिट को ट्रक पर लाद कर सड़क किनारे रख दिया जाता है। इसे किसी स्थान पर लगाने या हटाने में महज 2 घंटे का समय लगता है। इसके लिए जमीन भी बहुत कम चाहिए। इसका इस्तेमाल  मिल्क बूथ या एटीएम की तरह ही किया जाता है। आप कुछ बटन प्रेस करके पेट्रोल-डीजल या गैस का ऑप्शन चुनेंगे और फिर मात्रा के मुताबिक पेमेंट करके फ्यूल ले सकते हैं। पॉर्टेबल पेट्रोल पंप पर कैशलेस पेमेंट की व्यवस्था होगी। आप डेबिट-क्रेडिट कार्ड, ई-वॉलेट, यूपीआई आदि से कैशलेस पेमेंट करेंगे। पॉर्टेबल पेट्रोल पंप 'सेल्फ सर्विस' मॉडल पर काम करता है। यहां आपको पेट्रोल देने के लिए कोई कर्मचारी नहीं होगा। आपको खुद ही अपनी गाड़ी में फ्यूल भरना होगा। कंपनी भारत सरकार और तेल कंपनियों से बातचीत में जुटी है। कंपनी ने अगले 5-7 साल में 50 हजार पोर्टेबल पेट्रोल पंप यूनिट तैयार करने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए 400 करोड़ रुपए प्रति यूनिट निवेश के साथ 4-7 यूनिट लगाने की तैयारी की जा रही है। ग्रामीण इलाकों में लोगों को पेट्रोल पंप के लिए काफी दूर जाना पड़ता है। पोर्टेबल पेट्रोल पंप ऐसे इलाकों के लिए वरदान साबित हो सकते हैं।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो