sulabh swatchh bharat

गुरुवार, 24 मई 2018

एन चंद्रशेखरन - मिली टाटा की कमान

अब तक की परंपराओं से दीगर टाटा संस के पहले गैर पारसी मुखिया

एन चंद्रशेखरन को टाटा संस का चेयरमैन बनाया गया है। वर्तमान में वह टाटा समूह की अहम कंपनी टीसीएस के प्रबंध निदेशक हैं। उन्होंने तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली क्षेत्रीय इंजीनियरिंग कॉलेज से 1987 में मास्टर इन कंप्यूटर एप्लीकेशंस (एमसीए) की डिग्री हासिल की। डिग्री करने के तुरंत बाद उन्होंने टीसीएस ज्वॉइन कर लिया था। यहीं काम करते हुए 2009 में वह टीसीएस के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी नियुक्त हुए। वर्तमान में वह इसी पद पर अपना पांच साल दूसरा कार्यकाल संभाल रहे हैं। उन्होंने अपने समय में देश को सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र का सुपरपावर बनते देखा है और टीसीएस को इस क्षेत्र की सिरमौर कंपनी बनाने में अहम योगदान दिया है, जो पूरे टाटा समूह का चमकता सितारा है। चंद्रशेखरन टाटा समूह के चेयरमैन पद पर पहुंचने वाले गैर-शेयरधारक हैं। उनका टाटा परिवार से भी संबंध नहीं है। लगभग 100 अरब डॉलर के मूल्यांकन वाले टाटा समूह का प्रमुख नियुक्त किए जाने के बाद 54 वर्षीय चंद्रशेखरन ने कहा, 'टाटा समूह में, हम तीव्र बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। मैं इस बात को जानता हूं कि इस पद की भारी जिम्मेदारियां हैं।’ उन्होंने कहा, ' मेरा यह प्रयास होगा कि मैं समूह की वृद्धि में नैतिकता और उन मूल्यों के साथ मदद कर सकूं जिनके आधार पर टाटा समूह का निर्माण हुआ है।’ उन्होंने कहा कि 30 वर्ष से ज्यादा समय से टाटा परिवार का हिस्सा होने पर उन्हें गर्व है और यह पद मिलना एक बड़ी उपलब्धि है।

 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो