sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 21 जून 2019

धरती के नीचे दबा है हीरे का बड़ा खजाना

मैसाच्युसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, धरती के नीचे 10 खरब से हजार गुना ज्यादा कीमत का हीरा दबा हुआ है

वैज्ञानिकों ने धरती के नीचे हीरे के बड़े भंडार का पता लगाया है। मैसाच्युसट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, धरती के नीचे 10 खरब से हजार गुना ज्यादा हीरा दबा हुआ है। हालांकि, इसे निकाला नहीं जा सकता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह हीरा धरती की सतह से करीब 90 से 150 मील (145 से 240 किलोमीटर) अंदर है। अभी तक कोई इंसान इतनी गहराई तक नहीं पहुंच पाया हैऔर न ही इतनी गहरी खुदाई की जा सकी है। 
एमआईटी के डिपार्टमेंट ऑफ अर्थ, ऐटमॉसफरिक एंड प्लैनेटरी साइंसेज में रिसर्च साइंटिस्ट उलरिक फॉल कहते हैं, 'हम इस हीरे को बाहर नहीं ला सकते, लेकिन फिर भी यह इतना ज्यादा है, जिसके बारे में हमने पहले कभी सोचा भी नहीं है।' सेसमिक तकनीक के जरिए वैज्ञानिक यह पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि धरती से ध्वनि तरंगें कैसे गुजरती हैं, तभी उन्हें यह हीरे का खजाना मिला जो उलटे पहाड़ के आकार में हैं। वैज्ञानिकों को अब लगता है कि पहले के अनुमानों के मुताबिक, पृथ्वी के प्राचीन भूमिगत चट्टानों में 1000 गुना ज्यादा हीरे हैं। हालांकि, अभी भी बेहद कम संभावनाएं हैं कि यह हीरे कभी  दुकानों तक पहुंच पाएंगे। 
हीरे कार्बन से बनते हैं। धरती की गहराई में तेज दबाव और अत्याधिक तापमान में हीरे बनते हैं। यह सतह के पास तभी आते हैं जब ज्वालामुखी फटे, जो दुर्लभ होता है। इस तरह के ज्वालामुखी विस्फोट लाखों-करोड़ों सालों में एक बार होते हैं।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो