sulabh swatchh bharat

सोमवार, 20 मई 2019

डेंगू में मौसम विभाग की अहम भूमिका

डेंगू और चिकनगुनिया में मौसम विभाग अहम भूमिका निभाएगा

नई दिल्ली: मौसम विज्ञानी की मानें तो दिल्ली-एनसीआर में महामारी का रूप लेने वाले डेंगू एवं चिकनगुनिया की रोकथाम में मौसम विभाग एक अहम भूमिका अदा करेगा। विभागीय स्तर पर नमी एवं तापमान वाले उस वातावरण का पूर्वानुमान पहले ही दिल्ली सरकार व नगर निगम को बता दिया जाएगा। जिसमें इन बीमारियों के जनक मच्छर पैदा होते हैं। मौसम विज्ञानी दिल्ली सरकार, आपदा प्रबंधन और तीनों नगर निगमों के आला अधिकारियों को जून माह से हर सप्ताह ईमेल भेजना शुरू करेंगे। इस ईमेल में मौसम विज्ञानी अगले एक सप्ताह का विस्तृत पूर्वानुमान देंगे कि उस सप्ताह में बारिश कहां और कैसी रहेगीए तापमान कितना रहेगा और नमी कितने फीसद तक रहने की संभावना है। पूर्वानुमान के साथ-साथ यह भी बताया जाएगा कि चिकनगुनिया एवं डेंगू का प्रकोप ज्यादा न फैलेए इसके लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं।

मौसम विभाग के महानिदेशक डा केजे रमेश के मुताबिक अगले सप्ताह दस दिन का सटीक पूर्वानुमान ही दे सकते हैं। उसके अनुरूप स्थानीय निकायों और सरकारी विभागों को काम करना होगा। इस पूर्व सूचना के आधार पर दिल्ली सरकार और नगर निगम के अधिकारी जल भराव से निपटने और दवा का छिड़काव करने की दिशा में पूरी तैयारी कर सकेंगे। यही नहीं, डिस्पेंसरियों एवं अस्पतालों को भी समय पूर्व अलर्ट किया जा सकेगा। विभाग की ओर से इस आशय की विभागीय बैठक भी हो चुकी है और मौसम विज्ञानी एससी भान को नोडल अधिकारी भी नियुक्त किया जा चुका है।

मानसून के दौरान ही चिकनगुनिया व डेंगू का जनक मादा एडीज एजेप्टाइज मच्छर पैदा होता है। इस मच्छर की उत्पत्ति में 22 से 31 डिग्री सेल्सियस तापमान और 70 से 90 फीसद की नमी खासी मददगार साबित होती है। लू से बचाने की दिशा में आइएमए व रेडक्रास से हाथ मिलाने के बाद डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए भी योजना तैयार की गई है।  



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो